Current Events Journals Uncategorized

October-December, 2023

 

Front Page, Preface and Index

  1. Exploring the Landscape of New Media: A Comprehensive Analysis of Social Networking Site Utilization among Research Scholars

Akanksha Singh

This research paper aims to explore the utilization of new media, specifically Social Networking Sites (SNSs), by research scholars. The study investigates various aspects, including the duration of SNS usage, platforms accessed, tools used for access, purposes…

 

  1. An Analysis of Business Perspective of News Media and a Need to Include it in Media Education

Chitralekha Agrawal                 Dr Sayan Dey

News stories have the power to change social realities, alter people perception and have an impact on society, politics, and individuals. Today’s media studies curriculum places a strong emphasis on imparting students with the knowledge and abilities needed to work in the media and to comprehend the ethical ramifications of their actions…

 

  1. Cinema in Digital Age: The OTT Challenge

Prof. M. Shafey Kidwai                                             Zoya Abrar Khan

The dynamics of the Indian entertainment market are conclusively determined by changing the omnipresent Internet. The scale and effect of India’s cellular market in the coming years has grown amazing, thanks to millions of individuals and the deployment of 3G, 4G, and 5G networks…

 

  1. Mapping the Practice of Environmental News Reporting in News Channels: A Perception Survey of News Channel Media Professionals

Prof. (Dr.) Bandana Pandey                                        Shweta Arya

The purpose of this paper is to investigate the views, attitudes, and influences that shape environmental news reporting in Indian news channels. With a particular emphasis on the dynamic relationship that exists between the personal convictions of journalists, their educational backgrounds, and the editorial landscape, the study investigates the ways in which these elements contribute to environmental journalism in news…

 

  1. Attitudes of Secondary School Teachers’ Towards Smart Classroom Teaching: An Explanatory Study

 Sadashiv Barad                                                   Prof. Prasanta Kumar Acharya

Now a day’s smart classroom teaching is regarded as a panacea for modern education system. This technology-based education system along with modern and electronic devices brought a huge and drastic change in class room teaching and deliberation of instruction and pedagogy. The successful utilization and implementation of such programme…

 

  1. रेडियो श्रोताओं की प्रकृति और उपयोगिता का अध्ययन

कपिल देव प्रजापति                                               प्रो. (डॉ.) धीरेन्द्र पाठक

सृष्टि के आरंभ से ही मानव, पशु-पक्षी, पेड़-पौधे या अन्य सभी में आपसी संचार की प्रक्रिया होती है। मानवों ने अपनी चूकि सोचने, समझने और निर्माण करने की शक्ति इसके बल पर मानव ने संचार के क्षेत्र नए-नए प्रयोग कर ऐसे यंत्रिकी का आविष्कार किया जिसके द्वारा व्यक्ति एक स्थान से अन्य स्थान के व्यक्ति से बातचीत कर पाये। इटली के एक वैज्ञानिक ‘गुगलियो मारकोनी’ ने सबसे पहले संकेतों…

 

  1. कोरकू जनजाति में लोककथाएँ: एक मानवशास्त्रीय समीक्षा

विवेक कुमार                                             महेंद्र कुमार जायसवाल

भारतीय समाज के जनमानस में प्रचलित लोक साहित्य के विभिन्न रूप कभी भी उपेक्षित नहीं रहे जिनमें लोक गीत, लोक कथाएँ, लोक गाथा, लोक नृत्य, लोक कला, लोक संगीत, लोक वाद्य एवं लोकोक्तियाँ, मुहावरे, पहेलियाँ इत्यादि प्रमुख है। जिनकी प्राचीनता, महत्त्व एवं उपयोगिता सभी जगह हमेशा से रही है। ये सभी व्यक्ति रचित न होकर लोक रचित होती है, जो मौखिक रूप से निरंतर आगे बढ़ती रहती है। लोगों के द्वारा सृजित यह मौखिक वाणी मानव संस्कृति का दर्पण है। एक सांस्कृतिक परंपरा केवल कला…

 

  1. बैगा जनजाति में पारम्परिक माध्यमों के प्रयोग पर सोशल मीडिया का प्रभाव – एक अध्ययन

सुलभ सिंह                                       डॉ. संजीव गुप्ता

वैश्वीकरण और डिजिटल प्रौद्योगिकी का युग लोगों को पहले से कहीं अधिक जुड़े रहने का साधन देता है। अन्य जगहों की तरह, सोशल मीडिया आदिवासी समुदाय में तेजी से फैल रहा है जहां यह लोगों के लिए समसामयिक मुद्दों पर राय व्यक्त करने के लिए एक आभासी सार्वजनिक मंच का गठन करता है…

9. अनुच्छेद 370 के समाप्त होने पर मीडिया का सामाजिक प्रभाव का अध्ययन   

 राम कुमार सिंह

अनुच्छेद 370 के संबंध में मीडिया का प्रभाव बहुत गहरा है। मीडिया ने इस सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन को जनमानस के सामने रखकर जगह-जगह से उच्च स्तर की चर्चा और विचारशीलता पैदा की है। यह आम जनता को इस निर्णय की सही समझ देने और अपने विचार व्यक्त करने का माध्यम बन रहा है। मीडिया ने अनुच्छेद 370 के परिवर्तन को विभिन्न दृष्टिकोण से प्रस्तुत किया है। वार्तालाप, डिबेट, और…

  1. वेबसीरीज के संवादों का सामाजिक व मनोवैज्ञानिक अध्ययन (विशेष सन्दर्भ: मिर्ज़ापुर)

अरुण जायसवाल                                                        डॉ. रामसुंदर कुमार

प्रस्तुत शोध आलेख में वेबसीरीज में समाहित संवादों का अध्ययन किया गया है। आज वेब सीरीज आधुनिक मनोरंजन का एक अभिन्न अंग बन गई है, जिसमें लाखों युवा दर्शक अपने पसंदीदा शो देखने के लिए उत्सुक हैं। इन श्रृंखलाओं में अक्सर संवादों की एक विस्तृत सीरीज होती है…

  1. भारतीय परिवेश में सामासिक संस्कृति और जन भाषिक प्रवृत्तिमाध्यमों की

डॉ. राजेश सिंह कुशवाहा

भारत की सभ्यता और संस्कृति अनुपम एवं अतुल्य है। बहुआयामी संस्कृति और सामाजिक वैविध्यता की ऐसी मिसाल अन्यत्र कहीं दृष्टिगोचर नहीं होती है। संस्कृति किसी राष्ट्र की नींव की सदृश्य होती है। संस्कृति उन गुणों का समुदाय है जो व्यक्तित्व को परिष्कृत…

 

Ram Shankar
DR. RAMSHANKAR M.PHIL., ICSSR-DRF, NET, PH.D., CHIEF EDITOR-THE ASIAN THINKER JOURNAL (ONLINE)