Current Events Journals Uncategorized

January-March, 2023

Research is a purposeful, reliable novel responsibility in data. Inside the last 20 to 25 years, courses in systems for social assessment have come to have a verifiably fundamental work in humanistic edifying plans….
Dr. Chitra Tanwar
The Cinema around the world is changing. Apart from full-fledged feature films, web applications like Netflix are taking center stage. People have found a newer way of entertainment. The high TRPs that these web series receive…
Dr. Md. Aamir Pasha                                             Dr. Irshad Khan
In today’s world, when asked about the technology that people use the most, the answer is likely to be mobile technology. Mobile phones have become an integral part of human life. It is considered as a necessity rather than a convenience…
Emerging business models and changing management practices of print media in wake of the new media technology proliferation and speedy digitalization, is an important study area to understand the functional…
News channels have huge roleto create public opinion and its very well known that opinions effects on system, doesn’t matter in positive or negative way. Now its common question that after holding positive incidence…
Sonali Srivastava                                                           Dr. Mukta Martolia
This research paper examines the evolution of gender representations in Indian cinema, focusing on the portrayal of women, homosexuality, and transgender characters. The study highlights the gradual transformation…
डॉ. विनोद निताळे
डॉ. बाबासाहब आंबेडकर जी के पत्रकारिता में निहित सामाजिक उत्तरदायित्व की दृष्टि आज भी उतनी ही उपयुक्त है। सामाजिक प्रश्नों का सिलसिला समाप्त नहीं हुआ है। समय बदल रहा है। तदनुसार, प्रश्न की प्रकृति भी बदल रही है। हालांकि, कुछ सामाजिक मुद्दों की गंभीरता अभी भी उतनी…
डॉ. रामशंकर                  डॉ. मनोज कुमार गुप्ता                              डॉ. देबेंद्र नाथ दास
जल संकट के निवारण और उन्नयन के लिए जल शक्ति अभियान भारत का भविष्यगामी अभियान है. जल संचयन और संरक्षण की दिशा में कई अभियान एवं प्रयास किये गए हैं जिनके माध्यम से ग्रामीण आजीविका में सुधार के भी प्रयास भी किये गए. ऐसे कई अध्ययन सामने आये हैं…
  1. Media Literacy and Digital Citizenship: A Narrative Review

Rajiv Pratap Singh                                                                                  Abhijit Singh

This research paper explores the intricate relationship between media literacy and digital citizenship, highlighting their interconnectedness and the ways in which they support and reinforce each other. Media literacy refers to the critical analysis and understanding…

  1. 19वीं सदी में महाराष्ट्र: धार्मिक और सामाजिक आंदोलन

डॉ. प्रशांत राय

बंगाल के बाद सामाजिक, धार्मिक आंदोलन पश्चिम भारत में फैला। खासकर मुंबई प्रांत में कई समाज सुधारक पहले से ही समाज में जागरूकता लाने का प्रयास कर रहे थे। बंगाल में राजा राममोहन राय  के समाज सुधार आंदोलन का प्रभाव भी मुंबई प्रांत में देखने को मिलता है। उससे प्रभावित होकर कई समाज सुधारकों ने स्त्री शिक्षा…

  1. ‘उसने कहा था’ कहानी के तीन आयाम

डॉ. मनीष कुमार चौधरी

उसने कहा था चंद्रधर शर्मा गुलेरी द्वारा लिखित एक प्रसिद्ध कहानी है। यह कहानी तीन भागों में विभाजित है: भाग एक बचपन में लहना सिंह और सूबेदारनी की मुलाकात का वर्णन करता है। लहना सूबेदारनी से पूछता है कि क्या उसकी कुड़माई हो गई है, और वह नकारात्मक जवाब देती है। कुछ दिनों बाद, जब लहना

Ram Shankar
DR. RAMSHANKAR M.PHIL., ICSSR-DRF, NET, PH.D., CHIEF EDITOR-THE ASIAN THINKER JOURNAL (ONLINE)