Current Events Journals Uncategorized

January-March, 2022

01 Cover page, Preface and Index

Social work has evolved out of philanthropic and democratic ideals and its moral values  are based on respect for the equality…

 

1. An Evaluative Study on Impact of Fake News and Myths related to COVID-19

Akash Modi

The social media networks have emphasized the news being published online since the birth of the Internet and the subsequent expansion in use and accessibility. However, this has resulted in a significant shift in how genuine information is assessed and obtained. As a result, the goal of this article was to investigate the effects of fake news and myths around the novel Covid-19 epidemic…

2. Media as Opinion Framers, A Curtain Raiser pertaining 2014-2017 Elections

Abdul Fahad

Study investigating the effects of the media on voting behavior of elections. The present study showed that the role of the media in influencing election results is generally quite small. The power of the news media to set a nation’s agenda, to focus public attention on a few key public issues, is an immense and well-documented influence…

3. The Role of Dr. Ambedkar an Inclusive Social Development

Dr. Manoj Kumar Gupta

The role of social science becomes important in the inclusive journey of national building. Dr. Ambedkar’s contribution in equity based inclusive society nation building is the pathfinder of modern India. Socio-cultural asymmetry…

 

4. Changing Paradigm of News Culture in the Age of Digitalization- a study with reference to Mobile driven Journalism

Dr. Arvind Kumar Pal

Arunesh kumar

We are living in the age of digitalization. Smart Phones have made their strong presence in the society. With the emerging 5 G technique, Mobiles have become the one tool for journalism where anyone can gather, edit and present the news in very short time. Social Media is making remarkable presence in the contemporary society…

5.The influence and usage of Digital Media for Health Communication among Women in Kerala

Arya M.

Dr. S. Rajesh Kumar

Digital media informs, entertain, educate and influence by feeding various content into our daily life. Among the various contents, health is the top most content in the digital media platforms because health is considered as primary wealth for every individual. This paper examines the influence and usage of digital media platforms for health communication among women in Kerala..

6. E-Resources: Features/Characteristics, Types, and Issues

Ms. Noor Bano

This paper deals with the fundamentals of E-Resources, its characteristics, features, types, issues and disadvantages. In a latest trend, no one can’t do anything in the absence of e-resources. It gives an exposure, comprehensiveness and completeness also. It means, e-resources touches and affects our life, education, Research and Development, etc…

7. A study on the impacts of social media with special reference to Children

Dr. B. Jishamol

Social media during the pandemic has been a medium for students, scholars, teachers and businesses to reorganize the workplace and adapt a new way of working. The pandemic has had a positive and negative impact on the education sector. Furthermore, it has significantly initiated a fusion workforce or teaching learning method…

8. कोरोना महामारी के दौरान पठन-पाठन में सोशल मीडिया की भूमिका का अध्ययन

(बरेली जनपद के माध्यमिक व उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के छात्रों के संदर्भ में)

सुकान्त तिवारी                                                                                               

डॉ. कुँवर सुरेंद्र बहादुर

 नई पीढ़ी तकनीक प्रेमी है। आज लगभग हर किसी के हाथ में एंड्रॉयड मोबाइल देखने को मिलते हैं। यही कारण है कि वर्तमान दौर में सोशल मीडिया का प्रयोग सामान्य बात हो गई है। बच्चों से लेकर बुज़ुर्गों तक की सोशल मेडिया पर मौजूदगी है। सोशल मीडिया का अत्यधिक प्रयोग लोगों को आदी भी बना रहा है। कोरोना महामारी के कारण लगभग डेढ़ साल से लोग घरों में रहने को…

9. गंदी बस्ती उन्मूलन संबंधी योजनाएं एवं उनके क्रियान्वयन का समाजशास्त्रीय अध्ययन

(इंदौर शहर के संदर्भ में)

 डॉ. योगासना कचोले पाराशर

मानव जीवन की तीन मूलभूत आवश्यकताएँ है – भोजन, वस्त्र और आवास। मानव की कार्यक्षमता एवं जीवन को सुचारू रूप से सक्रिय रखने के लिए पौष्टिक भोजन, स्वच्छ वस्त्र और स्वास्थ्यकर वातावरण में उपयुक्त आवास का होना वांछनीय आवश्यकता है। नगर में रहने वाले निर्धन कमजोर वर्गों की श्रेणी में आता है, संविधान में कमजोर वर्गों के प्रति विशेष शासकीय प्रयासों व संरक्षणों का प्रावधान है…

10. मृगनयनी: परंपरा से विद्रोह एवं प्रेम का उद्दाम स्वरूप

डॉ. राहुल

इतिहास के हर एक काल खंड में स्त्रियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज की है। वह समय चाहे हजार साल पहले ही का क्यों न हो? पितृसत्तात्मक समाज-व्यवस्था में स्त्रियों की स्थिति कभी भी बेहतर नहीं रही है लेकिन उससे ऊपर उठकर भारतीय नारियों ने आम जन-मानस में स्त्री चेतना को जागृत किया है…

11. संयुक्त परिवारों का टूटन, तलाक और स्त्री की आजादी

विजय कुमार यादव

सत्तर के दशक से 21वीं सदी के मुहाने तक के सफ़र में बहुत कुछ बदला, लेकिन स्त्रियों की स्थिति में बहुत अधिक बदलाव नहीं हुआ। जिसे बदल जाना चाहिए था पीढ़ियों के बदलाव के साथ, लेकिन रह गया जस का तस ही। परिवार की बंदिशे स्त्री के लिए आज भी सबसे बड़ी बाधा है। चाह कर स्त्रियाँ पारिवारिक संस्था को तोड़ नहीं पाई हैं। स्त्रियों के चौखट लांघने भर से न जाने…

12. बाबू जगजीवन राम : सामाजिक न्याय के पुरोधा

डॉ. रामशंकर                                                             

प्रो. (डॉ.) शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी

जगजीवन राम, जिन्हें बाबूजी के नाम से जाना जाता है, एक राष्ट्रीय नेता, एक स्वतंत्रता सेनानी, सामाजिक न्याय के योद्धा, दलित वर्गों के एक चैंपियन, एक उत्कृष्ट सांसद, एक सच्चे लोकतंत्रवादी, एक प्रतिष्ठित केंद्रीय मंत्री, एक सक्षम प्रशासक और एक असाधारण प्रतिभाशाली…

13. Massive Open Online Courses (MOOCS): A New Wave of Education

Mrs. Arushi Gaur Chauhan

Article 26 of the Universal Declaration of Human Rights, 1948 embodies the right to education. International agreement on Education 2030 Agenda and Sustainable Development Goal 4 (SDG4) relies heavily on the notion of equal access to quality education for all people, regardless of socioeconomic status…

14. Study of Capital, Liquidity of Public Sector Fertilizer Industry in India

Dr. R.K Shukla                                                                                             Sanjeev Lohani

Indian fertilizers market is expected to witness strong growth during the last decade, owing to continuous growth of population which is resulting in more demand for food, coupled with increasing demand for agricultural products in the country. India is one of the chief producers of agricultural products such as pulses, wheat…

15. सोशल मीडिया में प्रसारित फेक न्यूज का पाठकों व दर्शकों पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन

डॉ. अख़्तर आलम

रंजीत कुमार

फेक न्यूज कोई नई चीज नहीं है, लेकिन सोशल मीडिया के माध्यम से इसका प्रसार बहुत तेज़ी से बढ़ गया है। सोशल मीडिया साईट्स में फेक न्यूज का व्यापक प्रसार सामाजिक स्थिरता, आर्थिक विकास और राजनीतिक लोकतंत्र आदि के लिए खतरा पैदा कर रहा है। फेक न्यूज ना केवल सामाजिक सौहार्द बिगाड़ रहा है बल्कि यह आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक रूप से भी प्रभावित कर रहा है…

Ram Shankar
DR. RAMSHANKAR M.PHIL., ICSSR-DRF, NET, PH.D., CHIEF EDITOR-THE ASIAN THINKER Research Officer Babu Jagjivan Ram Chair Dr. B.R. Ambedkar of Social Sciences, Mhow